Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 1, 2021 · 1 min read

तुम मेरे ही पेड़ हो

एक जड़
एक तना
एक टहनी
एक फल
एक फूल
एक पत्ता
एक घोंसला
एक चिड़िया
एक जमीन
एक आसमान
एक मिट्टी
एक बादल
एक रास्ता
एक मंजिल
एक शोर
एक खामोशी
एक खुशबू
एक रंग
अपनी बाहें
चारों दिशाओं में
फैलाये
इन सब जिम्मेदारियों को
अपनी कमर से बांधे
मेरे घर के आंगन में
खड़े
तुम मेरे ही द्वारा रोपित
बीज से बने
पेड़ ही हो ना
तुमने मुझे पहचाना नहीं
तो मैंने यह सवाल
कर लिया
तुमने मुझे पहचान लिया
ना
अपना सिर थोड़ा सा
हिला दो
हां कहने के लिए
तनिक
तिनके भर
झुका दो
मैं समझ जाऊंगी
आसमान से टूटकर
गिर रही पतंग को
अपनी शाखाओं में
फंसा लो
किसी उड़ते हुए पंछी को
अपने आशियाने में
पनाह दो
किसी राहगीर को
अपनी छांव दो
किसी बादल को
अपने ऊपर मंडराने की
जगह दो
किसी प्रेमी युगल को
अपने घने पत्तों में
छिपाकर
इश्क फरमाने की
गुफा दो
किसी कोयल को
अपना राग सबको
सुनाने की
इजाजत दो
किसी को फल
किसी को फूल
किसी को पत्ते
किसी को अपनी लकड़ी
दो
बस बस इतना सब
काफी है
यह थोड़े से इशारे
मेरे लिए पर्याप्त हैं कि
तुम मेरे ही पेड़ हो
मेरी छाया स्वरूप
मेरी कोख से
जन्मे हुए
बिल्कुल मेरे जैसे।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

3 Likes · 2 Comments · 235 Views
You may also like:
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
हुनर बाज
Seema 'Tu haina'
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा
Dr fauzia Naseem shad
आंधियां आती हैं सबके हिस्से में, ये तथ्य तू कैसे...
Manisha Manjari
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
करो नहीं व्यर्थ तुम,यह पानी
gurudeenverma198
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
"फौजी और उसका शहीद साथी"
Lohit Tamta
कशमकश
Anamika Singh
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
शम्मा ए इश्क।
Taj Mohammad
मिसाल
Kanchan Khanna
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
फिर झूम के आया सावन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
हमने की वफा।
Taj Mohammad
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
ख्वाब को बाँध दो
Anamika Singh
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
अशांत मन
Mahender Singh Hans
आजाद वतन के वासी हम
gurudeenverma198
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
दौलत देती सोहरत
AMRESH KUMAR VERMA
मिलेंगे लोग कुछ ऐसे गले हॅंसकर लगाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क की आग।
Taj Mohammad
दरिया
Anamika Singh
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
Loading...