Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तुम मेरी क्या हो ?

तुम तो स्वच्छ चांदनी सी
कोमल वंदनी तुम मेरी क्या हो
हृदय की रागनी हो या
स्पर्श प्रथम हो तुम
मीठी चुभन हो या
प्रणय की वेदना हो तुम
उम्र की एक उमड़ती नदी हो या
मधुर सी हलचल
तुम मेरी क्या हो?
देह का शृंगार हो या
मेरे रूप का मधुमास हो तुम
कठोर क्षणों में मेरी अश्रुपूर्ण
मेघ सी चंचल
तुम मेरी क्या हो?
तुम कठिन अनंबंध हो या
तुम मेरा मनुहार हो
तुम उम्र की एक साधना हो या
तुम मेरी भावना हो
क्या कहे आखिर तुम मेरी क्या हो?
हृदय का एक उद्गार हो तुम
भावनाओं का संसार हो तुम
चंचल मन की एक वीणा हो तुम
‘अंजुम’ मेरे जीवन का आधार हो तुम
गीत की लय हो
न जाने तुम मेरी क्या हो?

नाम-मनमोहन लाल गुप्ता
मोबाइल नंबर-9927140483

1 Like · 448 Views
You may also like:
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
मुझको सन्तुष्टि इसी में है
gurudeenverma198
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
'The Republic Day '- in patriotic way !
Buddha Prakash
ख़्वाब ताबीर
Dr fauzia Naseem shad
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
'अशांत' शेखर
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
फिजूल।
Taj Mohammad
मेरा साया
Anamika Singh
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
तुमको भूल ना पाएंगे
Alok Saxena
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
कविता
Ravi Prakash
✍️मै कहाँ थक गया हूँ..✍️
'अशांत' शेखर
दिल भी
Dr fauzia Naseem shad
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
✍️ओर भी कुछ है जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
बीवी हो तो ऐसी... !!
Rakesh Bahanwal
हम भी इसका
Dr fauzia Naseem shad
संगीतमय गौ कथा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...