Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#22 Trending Author
Jul 19, 2022 · 1 min read

तुम मुझे

हम बिछड़ के फिर मिल नहीं सकते।
तुम मुझे खो के थोड़ी देखोगे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

4 Likes · 38 Views
You may also like:
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेवफ़ा कह रहे हैं।
Taj Mohammad
हम सब एक है।
Anamika Singh
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
एक प्रेम पत्र
Rashmi Sanjay
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
✍️सब खुदा हो गये✍️
'अशांत' शेखर
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
ज़िंदगी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
मौत
Alok Saxena
*मंत्री जी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
✍️✍️गांधी✍️✍️
'अशांत' शेखर
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
✍️जिंदगी की सुबह✍️
'अशांत' शेखर
✍️"अग्निपथ-३"...!✍️
'अशांत' शेखर
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
पिता
Mamta Rani
“ WHAT YOUR PARENTS THINK ABOUT YOU ? “
DrLakshman Jha Parimal
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...