Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 23, 2022 · 1 min read

तुम मुझे भुला ना पाओगे

तुम मुझे भुला ना पाओगे,
मेरे बिन तुम रह ना पाओगे।
याद आती रहूंगी मैं तुमको,
दिल से निकाल ना पाओगे।।

कोशिश कर लो चाहे जितनी,
मुझे तुम कभी हटा ना पाओगे।
परछाई बनकर रहूंगी साथ मै,
हर समय तुम मुझे ही पाओगे।।

करती हूं प्यार दिल से तुमको,
झांकोगे दिल में मिलेगी तुमको।
दिल से बाहर कभी ना करना,
साथ रखना सदा तुम मुझको।।

तुम्ही मेरे मंदिर तुम्ही मेरी पूजा,
हमेशा मैने तुम्ही को है पूजा।
मेरे मंदिर के भगवान तुम्ही हो,
निरंतर चलती रहे ये मेरी पूजा।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

3 Likes · 4 Comments · 152 Views
You may also like:
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Little sister
Buddha Prakash
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
आदर्श पिता
Sahil
Loading...