Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तुम मन मेरा बहलाओ रे !

तुम मन मेरा बहलाओ रे !
मैं हूँ आज अधीर प्रिये, तुम मन मेरा बहलाओ रे,
भूल गया हूँ मार्ग प्रिये मैं,तुम ही मार्ग दिखाओ रे ,
आज मुझे ये विश्व प्रिये है शून्य-शून्य सा लगता,
ऐसे में तुम आकर मुझ को जीवन राग सुनाओ रे
मैं हूँ आज अधीर प्रिये, तुम मन मेरा बहलाओ रे ! ,*************************
देखो तो ये अवनि अरे ये भी नभ पर मरती है
निर्जन में अति दूर क्षितिज पे जाकर ये मिलती है,
फिर क्यों तू यूँ ही उदास हो मिलने से डरती है,
भय का कर परित्याग आज कुछ सपने नए सजाओ रे
मैं हूँ आज अधीर प्रिये, तुम मन मेरा बहलाओ रे!************************
मेरे इस चंचल मन की कुछ चंचलता हर ले जाओ,
और अधीर ह्रदय को भी कुछ धीरज सुनो बंधा जाओ,
आओ इस वीरान मरुस्थल में बहार बन छाओ रे
मैं हूँ आज अधीर प्रिये, तुम मन मेरा बहलाओ रे!******************************

137 Views
You may also like:
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Santoshi devi
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
इंतजार
Anamika Singh
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...