May 12, 2022 · 2 min read

‘तुम भी ना’

मैं पिछले कुछ दिनों से अजीब हरकतें करने लगी थी, कभी बार-बार चहलकदमी करने लगती तो कभी भविष्य की चिंता में फूट-फूट कर रो पड़ती।
मेरे कानों में शिल्पम की गुस्से से चीखती आवाज़ें गूंजने लगतीं..
“अभी आपकी सास की सेवा करूं, फिर आपके पति की सेवा करूं , तबतक आप लटक जायेंगी मेरे गले में.. रिश्तों की दुहाई देते हुए..मैं बस आपकी और आपके खानदान की सेवा करने के लिए बना हूं”
शिल्पम तो पैर पटकते हुए जा चुका था.. पर मैं! उस दिन से मन से टूट कर एकदम छितरा सी गई थी। परिस्थितियों के दुष्चक्र में मैं बुरी तरह फॅंस चुकी थी। इनके यूएस जाने के ठीक एक दिन पहले शिल्पम ने जिस तरह से झगड़ा किया था, वो आज भी अंर्तमन हिला देता है। आज कमरे में बैठे-बैठे जी घबड़ा गया तो बाहर निकल आई।
सहसा मैं चौंक पड़ी.. सामने गेटमैन एक लिफाफा लिए खड़ा था। मैंने इनकी राइटिंग देखी तो झट से उसको खोला..”अरे! इनका ख़त! मैंने थरथराते हाथों से अंदर से ख़त निकाला और पढ़ने लगी..
“प्रिय शकुंतला, जबतक ये पत्र तुम तक पहुंचेगा, मैं जला दिया जाऊंगा। तुम्हें तो पता है, मैं भारत नहीं आ पाऊंगा, कोरोना मुझे खत्म कर चुका है। मैंने आनलाइन सारी संपत्ति तुम्हारे नाम कर दी है। शिल्पम ने जिस तरह उस दिन तुमसे झगड़ा किया था, वो असहनीय था। मैंने उसको धन-संपत्ति से बेदखल कर दिया है। तुम और अम्मा मेरे अनाथालय की देखभाल करना और उन सब बेसहारों की मां बनकर रहना”
“अरे! तुम भी ना..” कहकर मैं नियति की इस क्रूर लीला पर और उनका आख़िरी ख़त पढ़कर फूट-फूट कर रो पड़ी।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

35 Views
You may also like:
अथक प्रयत्न
Dr.sima
आप कौन है
Sandeep Albela
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
आजमाइशें।
Taj Mohammad
तुम हो
Alok Saxena
मां ने।
Taj Mohammad
मन
शेख़ जाफ़र खान
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
पिता
Deepali Kalra
"बेटी के लिए उसके पिता क्या होते हैं सुनो"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हसद
Alok Saxena
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
"कभी मेरा ज़िक्र छिड़े"
Lohit Tamta
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...