Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2021 · 1 min read

“तुम भी ना’

लघुकथा

तुम भी ना..

रात से सुबह तक मैं चहलकदमी करती रही.. मेरे कानों में शिल्पम की उस दिन की चीखती आवाज़ें बार बार गूॅंज रहीं थीं..
“अभी आपकी सास की सेवा करूं, फिर आपके पति की सेवा करूं , तब तक आप लटक जायेंगी मेरे गले में.. रिश्तों की दुहाई देते हुए..मैं बस आपकी और आपके खानदान की सेवा करने के लिए नहीं बना हूॅं माॅं ” कहते हुए शिल्पम पैर पटकते हुए जा चुका था..
सहसा मैं चौंक पड़ी.. सामने गेटमैन एक लिफाफा लिए खड़ा था। मैंने इनकी राइटिंग देखी तो झट से उसको खोला..”अरे! इनका ख़त! मैंने थरथराते हाथों से अंदर से ख़त निकाला और पढ़ने लगी..
“प्रिय शकुंतला, जब तक ये पत्र तुम तक पहुॅंचेगा, मैं जला दिया जाऊॅंगा। तुम्हें तो पता है, मैं भारत नहीं आ पाऊॅंगा, कोरोना मुझे लगभग खत्म कर चुका है। मैंने आनलाइन सारी संपत्ति तुम्हारे नाम कर दी है। शिल्पम ने उस दिन तुमसे बहुत झगड़ा किया था, मेरे लिए वो असहनीय था। मेरे दिमाग में उसकी कही एक-एक बात गूॅंजती रहती है। मैंने आनलाइन लिखा-पढ़ी करके उसको धन-संपत्ति से बेदखल कर दिया है। तुम और अम्मा मेरे अनाथालय की देखभाल करना और उन सब बेसहारों की माॅं बनकर रहना” इनकी लिखी आख़िरी पंक्ति पढ़ते -पढ़ते “अरे! तुम भी ना..” कहकर मैं फूट-फूट कर रो पड़ी।

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: लघु कथा
2 Likes · 2 Comments · 406 Views
You may also like:
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
🐾🐾अपने नक़्शे पा पर तुम्हें खोज रहा हूँ🐾🐾
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
తెలుగు
తెలుగు
विजय कुमार 'विजय'
“ प्रिय ! तुम पास आओ ”
“ प्रिय ! तुम पास आओ ”
DrLakshman Jha Parimal
!! समय का महत्व !!
!! समय का महत्व !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
आईने में अगर जो
आईने में अगर जो
Dr fauzia Naseem shad
गज़ल सुलेमानी
गज़ल सुलेमानी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमें हटानी है
हमें हटानी है
surenderpal vaidya
धरती माँ
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
--फेस बुक की रील--
--फेस बुक की रील--
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में...
Nav Lekhika
■ संस्मरण /
■ संस्मरण / "अलविदा"
*Author प्रणय प्रभात*
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नवसंवत्सर 2080 कि ज्योतिषीय विवेचना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आओ नमन करे
आओ नमन करे
Dr. Girish Chandra Agarwal
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
'अशांत' शेखर
"किसी की नज़र ना लगे"
Dr. Kishan tandon kranti
नभ में था वो एक सितारा
नभ में था वो एक सितारा
Kavita Chouhan
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
💐🙏एक इच्छा पूरी करना भगवन🙏💐
Suraj kushwaha
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
सुनो . . जाना
सुनो . . जाना
shabina. Naaz
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
मोबाइल के भक्त
मोबाइल के भक्त
Satish Srijan
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko...
Sakshi Tripathi
लबों पर हंसी सजाए रखते हैं।
लबों पर हंसी सजाए रखते हैं।
Taj Mohammad
#प्यार...
#प्यार...
Sadhnalmp2001
लाचार बचपन
लाचार बचपन
Shyam kumar kolare
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
Shekhar Chandra Mitra
प्रलय गीत
प्रलय गीत
मनोज कर्ण
क्षोभ  (कुंडलिया)
क्षोभ (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...