Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2021 · 1 min read

तुम ना आए….

उग आया लो चाँद गगन में,
तुम ना आए।
खोई तुममें रही मगन मैं,
तुम ना आए।

याद करो तुम ही कहते थे,
साँझ ढले घर आ जाऊँगा।
निकलेगा जब चाँद चौथ का
मैं तुमको गले लगाऊँगा।
लो, आया वो चाँद गली में,
तुम ना आए….

मन पर पत्थर रख रो-रोकर,
हमने सब त्यौहार मनाए।
जब भी खटका हुआ द्वार पर,
लगा हमें कि तुम ही आए।
जीते रहे हम इसी ललक में,
तुम ना आए….

बिना तुम्हारे गम सहकर भी,
हमने जग के फर्ज निभाए।
अवधि गिन-गिन जिए रहे हम,
जीवन के सब कर्ज चुकाए।
देखा तुमको चाँद – झलक में,
तुम ना आए….

बड़ी खुशी से संग सखी के,
हमने सब सिंगार सजाए।
वेणी गूँथी, माँग सजाई,
जड़े सितारे, हार बनाए।
उलझ गया लो चाँद अलक में,
तुम ना आए….

गुजरीं कितनी पूरनमासी,
कितनी घोर अमावस आयीं।
शिशिर-हेमंत-बसंत-पतझर,
षड्ऋतु आतप-पावस छायीं।
आँसू आ-आ रुके पलक में,
तुम ना आए!
डूब गया लो चाँद फलक में
तुम ना आए !

– © सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद
“सृजन प्रवाह” से

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 8 Comments · 515 Views
You may also like:
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
✍️बस हम मजदुर है
'अशांत' शेखर
*सफलता और असफलता सदा किस्मत से आती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जिन्दगी के राहों मे
Anamika Singh
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
तेरी खूबसूरती
Dalveer Singh
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
काश आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
बाबा की धूल
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
धार्मिक कार्यक्रमों के नाम पर जबरदस्ती वसूली क्यों ?
Deepak Kohli
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा
Seema 'Tu hai na'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
“मेरी ख्वाहिशें”
DrLakshman Jha Parimal
धैर्य
लक्ष्मी सिंह
दीपावली पर ऐसा भी होता है
gurudeenverma198
The shade of 'Bodhi Tree'
Buddha Prakash
Writing Challenge- क्षमा (Forgiveness)
Sahityapedia
मेहनत
Sushil chauhan
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
औरतें
Kanchan Khanna
अजीब दौर हकीकत को ख्वाब लिखने लगे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
एक प्रश्न
komalagrawal750
Loading...