Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

तुम तो ठहरे परदेशी

तुम तो ठहरे परदेशी
हमें क्या विकास दिखाओगे?
अब तक पकड़ाया लालीपाप
फिर चुनाव में वही पकड़ाओगे
देखते रहेंगे हम उड़न खटोला
और तुम जीतकर उड़ जाओगे !

548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल - इश्क़ है
ग़ज़ल - इश्क़ है
Mahendra Narayan
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
एक उदासी
एक उदासी
Shweta Soni
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क्रिकेट
क्रिकेट
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
इश्क  के बीज बचपन जो बोए सनम।
इश्क के बीज बचपन जो बोए सनम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
2362.पूर्णिका
2362.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
नैह
नैह
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नारी शक्ति वंदन
नारी शक्ति वंदन
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी मोहब्बत का उसने कुछ इस प्रकार दाम दिया,
मेरी मोहब्बत का उसने कुछ इस प्रकार दाम दिया,
Vishal babu (vishu)
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
तुम्हे शिकायत है कि जन्नत नहीं मिली
Ajay Mishra
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
शहीद दिवस पर शहीदों को सत सत नमन 🙏🙏🙏
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*उधार का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
खिचड़ी
खिचड़ी
Satish Srijan
💐अज्ञात के प्रति-66💐
💐अज्ञात के प्रति-66💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दलित समुदाय।
दलित समुदाय।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
वो जहां
वो जहां
हिमांशु Kulshrestha
Loading...