Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

!!** तुम तलवार दुधारी कर लो **!!

तुम तलवार दुधारी कर लो
********************

अगर लक्ष्य है तुम्हें साधना तो अचूक तैयारी कर लो,
छोड़ दो सारी दुनियादारी सिर्फ लक्ष्य से यारी कर लो।

दुश्मन तो दुश्मन होता है दुश्मन को मत गले लगाओ,
वार कोई भी व्यर्थ ना जाये तुम तलवार दुधारी कर लो।

आज के इस जालिम दुनिया में केवल नकली फूल मिलेंगे,
कुछ ख़ुश्बू के फूल उगाकर अपना घर फुलवारी कर लो।

अपने और पराये में जब भेद समझना मुश्किल हो,
पट्टी बाँध लो आँखों पर औ खुद को तुम गाँधारी कर लो।

जब चाहे मज़मा लगवा लो नज़रबंद कर लो दुनिया को,
“दीपक” हमें जमूरा देकर अपने नाम मदारी कर लो।

दीपक “दीप” श्रीवास्तव

3 Likes · 4 Comments · 223 Views
You may also like:
वक्त सबको देता है मौका
Anamika Singh
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी का राज
Anamika Singh
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
💔💔...broken
Palak Shreya
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
✍️तकदीर-ए-मुर्शद✍️
'अशांत' शेखर
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
■■★परमात्मनः शक्ति:★■■
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️आप क्यूँ लिखते है ?✍️
'अशांत' शेखर
मेरे खुदा की खुदाई।
Taj Mohammad
आख़िरी मुलाकात
N.ksahu0007@writer
*तिरंगा प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
मेरी वाणी
Seema 'Tu haina'
*बुलाता रहा (आध्यात्मिक गीतिका)*
Ravi Prakash
मुखर तुम्हारा मौन (गीत)
Ravi Prakash
होली
AMRESH KUMAR VERMA
जो बीत गई।
Taj Mohammad
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
दे सहयोग पुरजोर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
महफिल अफसूर्दा है।
Taj Mohammad
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
एक कसम
shabina. Naaz
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
Loading...