Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2022 · 1 min read

तुम जो हो

जो तुम चाहते हो
हर हाल में
तुम वही बनना!
जो तुम चाहते हो
हर हाल में
तुम वही करना!
लोगों का क्या है
वे तो कुछ भी
बकते रहते हैं!
जो तुम चाहते हो
हर हाल में
तुम वही चुनना!
Shekhar Chandra Mitra
#मुक्ति #मंत्र #समाज #प्रतिभा
#गुलामी #आजादी #विद्रोह
#rebel #talent #youth
#career #freedom #girls

Language: Hindi
1 Like · 67 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
युवा शक्ति
युवा शक्ति
Kavita Chouhan
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
*आदेशित पुरुषों से हो, घूँघट में रहना पड़ता है (हिंदी गजल/ग
*आदेशित पुरुषों से हो, घूँघट में रहना पड़ता है (हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
Ms.Ankit Halke jha
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
हौसला-2
हौसला-2
डॉ. शिव लहरी
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़िंदगी इस क़दर
ज़िंदगी इस क़दर
Dr fauzia Naseem shad
# महुआ के फूल ......
# महुआ के फूल ......
Chinta netam " मन "
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
“BE YOURSELF TALENTED SO THAT PEOPLE APPRECIATE YOU THEMSELVES”
“BE YOURSELF TALENTED SO THAT PEOPLE APPRECIATE YOU THEMSELVES”
DrLakshman Jha Parimal
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
इक झटका सा लगा आज,
इक झटका सा लगा आज,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
Manisha Manjari
दरकती है उम्मीदें
दरकती है उम्मीदें
Surinder blackpen
उफ़,
उफ़,
Vishal babu (vishu)
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
*जहां जिसका दाना पानी लिखा रहता है,समय उसे वहां पे बुलाता है
Shashi kala vyas
रचनाकार का परिचय/आचार्य
रचनाकार का परिचय/आचार्य "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्दे दिल…….!
दर्दे दिल…….!
Awadhesh Kumar Singh
2261.
2261.
Dr.Khedu Bharti
मैं भारत हूं (काव्य)
मैं भारत हूं (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
स्याही की मुझे जरूरत नही
स्याही की मुझे जरूरत नही
Aarti sirsat
तमाम लोग किस्मत से
तमाम लोग किस्मत से "चीफ़" होते हैं और फ़ितरत से "चीप।"
*Author प्रणय प्रभात*
दरबारी फनकार
दरबारी फनकार
Shekhar Chandra Mitra
अपने  ही  हाथों  से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
Ashok deep
💐प्रेम कौतुक-204💐
💐प्रेम कौतुक-204💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हैप्पी होली
हैप्पी होली
Satish Srijan
दर्द
दर्द
Shyam Sundar Subramanian
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
मुझे प्रीत है वतन से, मेरी जान है तिरंगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...