Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तुम जो फूलों सी खिलने कि कोशिश करो !

तुम जो फूलों सी खिलने कि कोशिश करो,
मै भ्रमर बन के गुन्जन सुना जाऊंगा ।
दूर से प्रीत अहसास दिल मे भरो,
गीत जज्बात के गुन गुना जाऊंगा,
चांदनी की तरह चमचमाती रहो,
चांद बन के गगन पे मै छा जाऊंगा
तुम जो फूलों सी खिलने कि कोशिश करो,
मै भ्रमर बन के गुन्जन सुना जाऊंगा ।।
दो कदम साथ चलने कि कोशिश करो,
साथ सदियों निभाता चला जाऊंगा,
तुम जो दो पल खुशी के निछावर करो,
दो जहां की खुशी मै लुटा जाऊंगा,
तुम जो फूलों सी खिलने कि कोशिश करो
मैं भ्रमर बन के गुन्जन सुना जाऊंगा ।।।।

अनुराग दीक्षित
01/09/17

176 Views
You may also like:
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता
Keshi Gupta
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
बरसात
मनोज कर्ण
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
बंदर भैया
Buddha Prakash
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...