Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तुम गैर कबसे हो गए ?…

तुम इतने गैर कब से हो गए ,
की हम तुम्हें दुश्मन से लगने लगे

तुम में धार्मिक कट्टरता कब से आई ,
की खुद के धर्म को ही श्रेष्ठ समझने लगे ।

हमने तो कभी तुम्हारे खुदा को बुरा न कहा ,
और तुम हमारे आराध्यों का अपमान करने लगे!

हम सभी ने मिलकर आजादी की जंग लड़ी,
और आज तुम गैरों से मिलकर बैगाने लगने लगे ।

हमने सभी त्योहार ईद या दिवाली इकठ्ठे मनाए,
आज तुम्हें अपनी सेंवई मीठी और हमारे लड्डू कड़वे लगे।

यह हमारा देश धर्म निरपेक्षता की मिसाल था,
और तुम उसी एकता के दिए को बुझाने लगे ।

तुम जो कहो या करो सब सही और हम गलत ,
तुम तो अब घृष्टता की सीमा लांघने लगे ।

खुदा खुदा करते हो मगर खुदा की एक नहीं मानते,
तुम तो अपने ही खुदा का असल संदेश नकारने लगे।

सबका मालिक एक है खुदा कहो या भगवान ,
मगर तुम तो उस खुदा को ही बांटने लगे ।

स्वर्ग सी धरती दी थी उसने हमें मिलकत रहने को ,
मगर तुम इस पर अपना ही हक जताने लगे ।

यह स्वार्थी नेता तमाशा देखते है हमें लडवा कर ,
तुम मूर्ख उनकी बातों को सच मानने लगे ।

अब छोड़ो यह हिंसा ,नफरत और बंटवारे की बात ,
तुम्हारे इस व्यवहार से भारत मां के जख्म हरे होने लगे ।

खून किसी का भी बहे ,हमारा या तुम्हारा,
हैं तो हम एक उसी की संतान ,लौट आओ !
तुम क्यों इस तरह भटकने लगे ।

5 Likes · 8 Comments · 146 Views
You may also like:
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संत की महिमा
Buddha Prakash
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
पिता
Aruna Dogra Sharma
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
Meenakshi Nagar
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...