Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2022 · 1 min read

तुम कहते हो।

मोहब्बत हुई थी तुमको मेरे अल्हड़पन से।
पर अब तुम कहते हो कि संजीदा रहा करो।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

73 Views
You may also like:
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
अधूरापन
Harshvardhan "आवारा"
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
माटी
Utsav Kumar Aarya
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
✍️हार और जित✍️
'अशांत' शेखर
माहौल का प्रभाव
AMRESH KUMAR VERMA
भारत माँ से प्यार
Swami Ganganiya
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
Your laugh,Your cry.
Taj Mohammad
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Save the forest.
Buddha Prakash
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
'अशांत' शेखर
कैसा मोजिजा है।
Taj Mohammad
मंज़िल
Ray's Gupta
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
मोहब्बत ना कर .......
J_Kay Chhonkar
मेरी आदत खराब कर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
वो प्यार कैसा
Nitu Sah
HAPPY BIRTHDAY SHIVANS
KAMAL THAKUR
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अल्फाजों में लिख दिया है।
Taj Mohammad
"शुभ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी" प्यारे कन्हैया बंशी बजइया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
Loading...