Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 1 min read

“तुम्ही तुम”

जला के राख करती है , तपिश तेरी निगाहों की ,
पिघलती अब शमा रहती , तुम्हारी शोख़ चाहों की .

बिना तेरे भला कैसे ,मुकम्मल ख्व़ाब सब होते ,
इसी आग़ोश में जी के , करूं चाहत पनाहों की .

हमारे दरम्याँ है क्या , बता पाना नहीं मुमकिन ,
कहीं भी मैं रहूँ चाहे, गिरह छूटे न बाहों की .

खिजाँ भी गर कभी , तनवीर में बदले मुहब्बत से ,
अदावत भूल के, दुनियाँ , बदल डालो कराहों की .

तुम्ही से ज़िन्दगी ओ बन्दगी ओ तिश्नगी सब कुछ ,
कहे काफ़िर मुझे दुनियाँ , सज़ा दे दे गुनाहों की .

अनीता मेहता ‘अना’

3 Comments · 422 Views
You may also like:
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️भरोसा✍️
'अशांत' शेखर
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
आई लव यू / आई मिस यू
N.ksahu0007@writer
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
इंकलाब की तैयारी
Shekhar Chandra Mitra
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
शांत वातावरण
AMRESH KUMAR VERMA
चल कहीं
Harshvardhan "आवारा"
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बदला नहीं लेना किसीसे, बदल के हमको दिखाना है।
Uday kumar
मिली सफलता
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Meenakshi Nagar
*वह तपस्या-त्याग के क्या दौर थे (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सब्र रख बंदे...
Seema 'Tu hai na'
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
दो किनारे हैं दरिया के
VINOD KUMAR CHAUHAN
राष्ट्रीय एकता दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भक्ति रस
लक्ष्मी सिंह
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
क्या हाल है आजकल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मस्तान मियां
Shivkumar Bilagrami
Loading...