Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 14, 2017 · 1 min read

तुम्हारे बिना

तुम्हारे बिना
मन नहीं लगता
तुम्हारे साथ रहना
मुझे आनंद देता है
हर जगह
दिन में भी
रात में भी ।

अमेरिका में
तुमसे मेरा मन जुड़ना
एक असाधारण घटना थी
तुममें मैंने सब कुछ पाया
छोड़ ह्रदय को
तुम हृदय हीन हो ।
पर बेहतरीन हो ।

तुम विदेशी हो
तुम्हारा अंग्रेजी पर अधिकार है
मैं शुद्ध हिंदी प्रेमी
विदेशी भाषा के
दो शब्द जानूँ
एक A to Z
दूसरा INTERNET

358 Views
You may also like:
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झूला सजा दो
Buddha Prakash
पिता
Ram Krishan Rastogi
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
माँ की याद
Meenakshi Nagar
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
लक्ष्मी सिंह
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दया करो भगवान
Buddha Prakash
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
मेरे साथी!
Anamika Singh
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
इंतजार
Anamika Singh
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...