Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तुम्हारे जन्मदिन पर

तुम्हारे जन्मदिन पर
तोहफे नहीं लाई हूँ
मैं बस दुआ लाई हूँ
कड़कती धूप में बचा सके
ऐसी बदलियां लाई हूँ
अगर राह के कंकड न हटा सकूँ
चलेंगे नंगे पैर हम दोनों
कि मैं अपनी चप्पल छुपा आई हूँ
जाम कोई भी मेरे लबो पे आता नहीं कभी
पर मैं तेरे लिए जिंदगी का नशा लाई हूँ
मैं तो महज़ कवयित्री हूँ
कोई महल नहीं ला सकती हूँ
पर हर ग़म तुम्हारा हर लूँगी
यह वादा देने आई हूँ
खुशी मैं सिर्फ शब्दों में जता सकती हूँ
जन्मदिन पर मैं सिर्फ दुआ लाई हूँ
मेरी हर ख़ुशी के आधे हक़दार
तुम्हें बनाने आई हूँ
जन्मदिन पर तुम्हारे
मैं सिर्फ़ दुआ लाई हूँ

3 Likes · 2 Comments · 177 Views
You may also like:
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
सेमल
लक्ष्मी सिंह
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
नफ़रतें करके क्या हुआ हासिल
Dr fauzia Naseem shad
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मेरी ईद करा दो।
Taj Mohammad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
आज के नौजवान
DESH RAJ
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam " मन "
✍️आईने लापता मिले✍️
'अशांत' शेखर
✍️पलभर का इश्क़✍️
'अशांत' शेखर
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
मोहब्बत-ए-यज़्दाँ ( ईश्वर - प्रेम )
Shyam Sundar Subramanian
✍️✍️गांधी✍️✍️
'अशांत' शेखर
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
.✍️आशियाना✍️
'अशांत' शेखर
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️रब्त✍️✍️
'अशांत' शेखर
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu haina'
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
खुशियाँ ही अपनी हैं
विजय कुमार अग्रवाल
आज नहीं तो कल होगा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
प्यार का अलख
DESH RAJ
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...