Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 19, 2016 · 1 min read

तुम्हारे चहरे का नगमा पढ़ने तो दीजिये/मंदीप

तुम्हारे चहरे का नगमा पढ़ने तो दीजिये,
मेरे दिल को आपके दिल में उतरने तो दीजिये।

महोबत बन जाये एक रवानगी,
प्यार के इस फूल को खिलने तो दीजिये।

आये कितने भी आधी तूफान,
सासों को शितल हवा की तरह बहने तो दीजिये।

कारवाँ थम जाये देख हमारी महोबत को,
गले से लगा हमारी चाहत महकने तो दीजिये।

हसरत लिए निकला हूँ तुम्हें पाने की,
तेरा हाथ मेरे हाथ में थामने तो दीजिये।

ना भुजे कभी दिया प्यार का,
एक बार प्यार की लौ जलने तो दीजिये।

मिल जाये हक “मंदीप” को अपना,
एक बार दिल में जगह तो दीजिये।

मंदीपसाई

139 Views
You may also like:
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
खुद को तुम पहचानो नारी [भाग २]
Anamika Singh
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
ग़ज़ल
Anis Shah
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
मंजिल
AMRESH KUMAR VERMA
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
Loading...