Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

तुम्हारा साथ हैं तो सारे मौसम अब सुहाने लगते हैं

तुम्हारा साथ हैं तो सारे मौसम अब सुहाने लगते हैं,
ये फूल… ये खुशबू… ये बरसातें सब बेकार लगते हैं..!!
– कृष्ण सिंह

1 Like · 14 Views
You may also like:
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
किन्नर बेबसी कब तक ?
Dr fauzia Naseem shad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
माँ
आकाश महेशपुरी
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतजार
Anamika Singh
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...