Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-408💐

*तुम्हारा वाला कश्कोल*

कुछ बोलना है अपनी सफ़ाई मैं बताओ,
इक क़दम साथ देते,क्यों न दिया बताओ,
हमारा कुछ नहीं है यहाँ बस फ़क़ीर हैं हम,
इश्क़ का कश्कोल भी न दे सके वो बताओ।

कश्कोल-भिक्षा पात्र

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
प्रेमचंद के पत्र
प्रेमचंद के पत्र
Ravi Prakash
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
कभी आधा पौन कभी पुरनम, नित नव रूप निखरता है
हरवंश हृदय
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
प्रेम पथिक
प्रेम पथिक
Aman Kumar Holy
श्री राम के आदर्श
श्री राम के आदर्श
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" तुम खुशियाँ खरीद लेना "
Aarti sirsat
"गुब्बारा"
Dr. Kishan tandon kranti
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
पर्यावरण
पर्यावरण
Vijay kannauje
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
हम वर्षों तक निःशब्द ,संवेदनरहित और अकर्मण्यता के चादर को ओढ़
DrLakshman Jha Parimal
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
यारों का यार भगतसिंह
यारों का यार भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
लेखनी
लेखनी
Prakash Chandra
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा🇮🇳
तारकेशवर प्रसाद तरुण
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
जिसे मैं ने चाहा हद से ज्यादा,
Sandeep Mishra
"बिना बहर और वज़न की
*Author प्रणय प्रभात*
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
मुहब्बत का ईनाम क्यों दे दिया।
सत्य कुमार प्रेमी
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-172💐
💐प्रेम कौतुक-172💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
Loading...