Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 21, 2016 · 1 min read

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह…

तुमसे मिलु मैं कुछ इस तरह, की कोई मुझे आवाज़ ना दे,
घुल जाउ तुममे इस कदर, की धड़कने मेरा साथ ना दे
कह जाउ तुमसे इस तरह, की कोई सुन भी ना पाये,
आंखे बयाँ करें और जुबां जज़्बात ना दे.

– © नीरज चौहान

3 Comments · 208 Views
You may also like:
मेरी हस्ती
Anamika Singh
अश्रुपात्र...A glass of tears भाग - 1
Dr. Meenakshi Sharma
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
हमारा दिल।
Taj Mohammad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
मौत।
Taj Mohammad
मां
Anjana Jain
दीपावली
Dr Meenu Poonia
एक संकल्प
Aditya Prakash
जग के पिता
DESH RAJ
✍️सलं...!✍️
"अशांत" शेखर
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इन्सानों का ये लालच तो देखिए।
Taj Mohammad
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
हसद
Alok Saxena
प्रेम की किताब
DESH RAJ
गीत
शेख़ जाफ़र खान
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
Loading...