Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तुमने दी आवाज……….

हवाओं से मिला पैगाम मै घबरा गया ।
तुमने दी आवाज ये लो मै आ गया ।।

कब से लगाये था आस तेरे मिलन की
जब आई वो घडी देख मै शरमा गया ।।

जरुरत क्या मुझे अब किसी कायनात की
जमाने की खुबसूरत सौगात आज में पा गया ।।

अगर जलते है दुनिया वाले तो जलने दे
छोड़ जग की रवायत जीने का मजा आ गया ।।

किसको सुने, किसको चुने ‘धर्म’ शंशय में
बस नाम ले नानक का फकीरा मैं आ गया ।।
!
!
!
डी. के. निवातियाँ _____@

194 Views
You may also like:
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
बुआ आई
राजेश 'ललित'
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...