Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#18 Trending Author
Apr 22, 2022 · 1 min read

तुझ पर ही निर्भर हैं….

तुझे देख देख चलती हैं मेरी साँसे
जहाँ तु देखे वहाँ रुकती हैं आँखे..!
देखो न तुम मुड़ मुड़ के वर्ना कैसे जियेंगे..!..!..!
तेरी मर्जी हैं तो देखो …
नहीं तो… जिलेंगे तेरे बगैर..!!
पर… हां गुज़ारिश हैं तुझ से
दिल की मानो हरदम…!
हैं पाक बड़ी ये चाहत
कोई नहीं हैं शिकायत..!!
हैं शायद मर्जी रब की तो
पूरी होंगी चाहत की अर्जी…! !
रूह की तमन्ना हैं….
तेरी रूह में बस जाना हैं….
पर…फिर भी… वह तुझ पर ही निर्भर हैं…!!!!!!

81 Views
You may also like:
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मोहब्बत में।
Taj Mohammad
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
.✍️साथीला तूच हवे✍️
"अशांत" शेखर
✍️आव्हान✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Mamta Rani
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
Loading...