Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तुझे रब मानता हूँ

तेरे हर असलियत जानता हूँ,
फिर भी तुझे रब मानता हूँ.
भूल जाता हूँ खुद को भले ही,
मगर हरपल तेरी चेहरा पहचानता हूँ.

बेशक तुमपे न होगी कोई असर,
फिर भी तुम्हे बेइम्तिहा चाहता हूँ.
तेरे ख्वाबो की चादर बुनता हूँ,
जहाँ तलक मेरे नजर जाता है,
एक तुझी को ढूंढ़ता – फिरता हूँ.
कभी ढूंढ़ना हो तो ढूंढ लेना,
तुम्हारे ही दिल में रहता हूँ.

तेरे राह ख़ुशी बिछाने के लिए,
हर गम सह के हँसता हूँ,
तू खेलती रही है मेरे दिल से,
फिर भी तुझे रब मानता हूँ.
तेरे प्यार में बन गया हूँ आवारा,
मगर तेरे पता नहीं भूलता हूँ.

तू आयेगी लौट कर उम्मीद है,
इसी इन्तिज़ार में अब-तक ज़िंदा हूँ.
कभी तो होगी मिलन सोचकर,
दरख़्त के निचे बैठ तेरे राह तकता हूँ.

तेरे नाम की माला हर पहर जपता हूँ,
तू आयेगी सोचकर सजता संवरता हूँ,
गुजरी हुई पल को याद कर,
कभी हँसता हूँ कभी रोता हूँ,
तेरे हर अतीत लम्हों को,
मै शायरी,ग़ज़ल में ढालता हूँ.

वो तितली कब आयेगी मेरे आँगन,
कही कोने में बैठ खुद से पूछता हूँ.
तन्हाई रात , सावन की बरसात में,
क्या करू तेरे बिन जलता हूँ.

मै कैसा पागल आशिक़ हूँ,
तेरे हर असलियत जानता हूँ,
फिर भी तुझे रब मानता हूँ

180 Views
You may also like:
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रत्नों में रत्न है मेरे बापू
Nitu Sah
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
Little baby !
Buddha Prakash
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौसम बदल रहा है
Anamika Singh
हे महाकाल, शिव, शंकर।
Taj Mohammad
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
प्यार
Satish Arya 6800
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr. Alpa H. Amin
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
माँ का प्यार
Anamika Singh
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रदीप : श्री दिवाकर राही का हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
Loading...