Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

तुझे याद रखा है मैंने …………( ग़ज़ल )

हर ख़ुशी हर एक गम में, तुझे याद रखा है मैंने !
तेरी यादो का गुलशन, सदा आबाद रखा है मैंने !!

जरुरी नहीं कि वफ़ा के बदले वफ़ा हो हासिल, !
वादा वफ़ा निभाने का अपना याद रखा है मैंने !!

हर एक खौफ से डरना, अब छोड़ दिया है मैंने !
तेरे जाने के बाद, खुद को आबाद रखा है मैंने !!

शुक्र मानो की तुम्हे अभी तक नकारा नही दिल ने !
साँसों में शालिम आज भी आजाद रखा है मैंने !!

नजरे झुका लेना फकत इलाज़ नही भुला देने का !
तुझे खुदा से की गयी पहली फ़रियाद रखा है मैंने !!

चन्द लफ्ज़ कहे थे तुमने “धर्म” की शान में कभी !
उस पाक नेमत को समझ के जायदाद रखा है मैंने !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ ______________@

2 Comments · 205 Views
You may also like:
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
अरदास
Buddha Prakash
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
कशमकश
Anamika Singh
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
Security Guard
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...