Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Oct 13, 2016 · 1 min read

तुझे कुछ इस तरह सजाएंगे

तुझे कुछ इस तरह सजाएंगे
चाँद नहीं अपनी कायनात बनाएंगे
तोड़ना-टूटना, ये दिल की अदा है
तुझे हम अपनी रूह मे समाएंगे

147 Views
You may also like:
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
बहुमत
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आदर्श पिता
Sahil
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*"पिता"*
Shashi kala vyas
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
Loading...