Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 8, 2017 · 2 min read

तुझे किस नाम से पुकारूं

भोलेनाथ को समर्पित
(शिव जी के 51 नाम सहित कविता )

भोलेनाथ ओ शंकर त्रिपुरारी,
ओ त्रिपुरारी – – – –
शर्व तेरी है महिमा बड़ी न्यारी।
बेलपत्र आक धतूरा दुग्ध चढ़ाऐं।
श्रावण मास में तेरी महिमा गाऐं।
तुझे शत शत नमन नीलकंठ,
ओ नीलकंठ – – – – –
तेरा जाप करता है हर कंठ।
कहलाते हो नटराज और महेश्वर,
शंभू तुम्हीं हो सारे जग के ईश्वर।
हो भगवन तुम ही जगद्व्यापी,
ओ जगद्व्यापी——-
तेरी करुणा है शेखर सर्वव्यापी।
जटा में गंगा बसती ओ गंगाधर,
शीश पर चन्द्र धारे ओ शशिधर।
पर्वत वासी हो तुम कैलाश पति,
ओ कैलाश पति——
गिरिप्रिय तुम हो तुम ही उमापति।
विश्वेश्वर हो तुम ही श्री कंठ तुम,
त्रिलोकेश हर लेते जग का तम।
श्री कंठ हो तुम शूलपाणी,
ओ शूलपाणी ——-
तेरा जयकारा करे हर प्राणी।
वृषभारूढ़ तुम रहते हो अनीश्वर,
ओ अम्बिका नाथ तुम हे परमेश्वर।
सूक्ष्म तनु तुम हो हे मृत्युंजय,
ओ मृत्युंजय ——-
शिव के भक्त पाए सब दुखों पर जय।
जय महाकालेश्वर, जय ओंकारेश्वर,
जय अम्लेश्वर, जय भीमेश्वर।
जय हो तेरी हे प्रभु जगन्नाथ,
ओ जगन्नाथ ——-
दरस को तेरे हम तरसे वैद्यनाथ।
जय अमर नाथ जी, जय केदारनाथ जी,
जय सोमनाथ जी, जय विश्व नाथ जी।
रुद्र तुम ही हो, तुम्हीं हो शाश्वत,
ओ शाश्वत ——–
सारे कष्टों से कर दो हमें निवृत्त।
जय हो घुश्मेश्वर, जय हो रामेश्वर,
जय भुजंगाभूषण, जय अर्धनारीश्वर।
ओ त्रयंबक, ओ भगवन अंबरीष,
ओ अंबरीष——-
दे दे हम भक्तों को अपना आशीष।
तेरी दिव्यदृष्टि ओ प्रलयंकर,
दुष्टों को देती दंड भयंकर
हुत हो तुम ही, तुम ही सुरेश,
ओ सुरेश ——–
सन्यासी का रचा है तूने वेश।
भक्ति के वश में तुम ओ भोले देवा,
भोग भांग चढ़े, न चढ़े कोई मेवा।
बैठे पर्वत पर देव आशुतोष
आशुतोष ———
तन पर भभूत और मन में है संतोष।
तुम ललाटाक्ष हो, सब तुम्हें दिखता,
झूठ सच कुछ न, तुमसे है छिपता।
अंतर्यामी हो, भगवन नीललोहित
ओ नीललोहित——-
सदाशिव करें भक्तों का सदा सुख और हित।
जन- जन का दुख हरते ओ सर्वज्ञ,
पुत्रों के कष्टों से नहीं हो तुम अनभिज्ञ।
जय हो त्रिलोचन, जय भोले भंडारी,
ओ भोले भंडारी ——-
भव सागर से कर दे नैया पार हमारी।

—रंजना माथुर दिनांक 21/07/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

363 Views
You may also like:
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
पिता
Aruna Dogra Sharma
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता
Kanchan Khanna
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...