Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2017 · 1 min read

==== तुझे अर्पण ====

सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं
सुर हैं मेरे पर गीत तेरे हैं
भगवन आप ही मीत मेरे हैं।

वाणी ये मेरी गुन तेरे ही गाये सदा
इक इक सांस पे तेरे प्रेम का कर्ज लदा।
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

तेरा ये आशीष दाता काफ़ी है मेरे लिए
सदा जीऊं मैं प्रभु सब के भले के लिए
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

सुबह शाम गाऊँ मैं तेरी ही महिमा
कैसै जताऊं नाथ मैं तेरी गरिमा
ओ प्रभु प्यारे तुम ही मीत हमारे
सुर हैं मेरे – – – – – – –

—-रंजना माथुर दिनांक 04/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

258 Views
You may also like:
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बरसात
मनोज कर्ण
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनमोल राजू
Anamika Singh
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
पिता
Ram Krishan Rastogi
Loading...