Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

तुझमें वह कशिश है

तुझमें वह कशिश है, इसलिए तुम्हारी चाहत है।
इसलिए तुम्हारे मुरीद है,और तुमसे मोहब्बत है।।
तुझमें वह कशिश है ——————–।।

यह हसीन तुम्हारा चेहरा, लगता है माहताब।
करोगे तुम हमें रोशन, बनकर एक आफताब।।
आप ही हमारे ख्वाब हो, और आप ही इबादत है।
इसलिए तुम्हारे मुरीद है, और तुमसे मोहब्बत है।।
तुझमें वह कशिश है—————-।।

गुलशन महक उठते हैं, आपके हंस जाने पर।
नृत्य करते हैं पंछी सारे, गीत तुम्हारे गाने पर।।
सरगम हमारी आप है, यह आपकी इनायत है।।
इसलिए तुम्हारे मुरीद है, और तुमसे मोहब्बत है।।
तुझमें वह कशिश है—————–।।

आबाद हमारा जीवन होगा, साथी तुम्हारे बनने से।
चमकेगा हमारा तुमसे नसीब, साथ तुम्हारे जीने से।।
सीने लगाया आपने , यह आपकी शराफत है।
इसलिए तुम्हारे मुरीद है, और तुमसे मोहब्बत है।।
तुझमें वह कशिश है—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
*मेरी इच्छा*
*मेरी इच्छा*
Dushyant Kumar
अपना अंजाम फिर आप
अपना अंजाम फिर आप
Dr fauzia Naseem shad
अंधा इश्क
अंधा इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Sahityapedia
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चंदू और बकरी चाँदनी
चंदू और बकरी चाँदनी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
Sunny Yadav
Sunny Yadav
Sunny Yadav
हम भी हैं महफ़िल में।
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
वैलेंटाइन डे पर कविता
वैलेंटाइन डे पर कविता
Shekhar Chandra Mitra
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Der se hi magar, dastak jarur dena,
Sakshi Tripathi
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
न थक कर बैठते तुम तो, ये पूरा रास्ता होता।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
बोलो बोलो हर हर महादेव बोलो
gurudeenverma198
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
কিছু ভালবাসার গল্প অমর হয়ে রয়
Sakhawat Jisan
मुझे लौटा दो वो गुजरा जमाना ...
मुझे लौटा दो वो गुजरा जमाना ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...