Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Nov 2021 · 1 min read

तुझको तुम्है बताने की और जरूरत क्या

मन के बहते तलाब में बैठी हंश जैसी हो
चकमक करती धार तरंगों को उस किरण पुंज जैसी हो
तुझको तुम्है बताने की और जरूरत क्या
नय तौर में भी अंदाज एक देसी हो

बाग से आती खुशबु में गुलाब जैसी हो
पंखुरियो को ओढ़े एक नयाब जैसी हो
तुझको तुम्है बताने की और जरूरत क्या
नय तौर में भी एक ख्याल देसी हो

बड़ी मुद्दतो बाद पूछा
हाले दिल कैसी हो
मेरे लब्ज तो नहीं है अब चुभते
नजरों में महज कैद आगोशी हो
तुझको तुम्है बताने की और जरूरत क्या
संपूर्ण विरासत ही तेरी, तेरी ही ताजपोशी हो

ये रस्मो रिवाज, दस्तुर् जमाने का है
तुम कहाँ दोषी हो
सर चढ़ती हो बेवजह ही
बैचैन,बेसुध सरगोशी हो
तुम्है तुझको बताने की और जरूरत क्या
मधुशाला से बढ़कर, मदहोशी हो।

विक्रम कुमार सोनी – स्वरचित

2 Likes · 2 Comments · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घर (पाँच दोहे)*
*घर (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
माँ कालरात्रि
माँ कालरात्रि
Vandana Namdev
महामारी covid पर
महामारी covid पर
shabina. Naaz
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
Anamika Singh
"शायद."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पहला प्यार
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
इतनी फुर्सत है कहां, जो करते हम जाप
सूर्यकांत द्विवेदी
हिसाब मोहब्बत का।
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
नीर
नीर
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
💐प्रेम कौतुक-349💐
💐प्रेम कौतुक-349💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️खुशी✍️
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
Helping hands🙌 are..
Helping hands🙌 are..
Vandana maurya
हम भारत के लोग
हम भारत के लोग
Mahender Singh
आसमां से आई
आसमां से आई
Punam Pande
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
दोहा
दोहा
Dushyant Baba
■ अप्रैल फ़ूल
■ अप्रैल फ़ूल
*Author प्रणय प्रभात*
'हकीकत'
'हकीकत'
Godambari Negi
प्यार
प्यार
Swami Ganganiya
पैसा बोलता है...
पैसा बोलता है...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
भूख दौलत की जिसे,  रब उससे
भूख दौलत की जिसे, रब उससे
Anis Shah
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
खिले रहने का ही संदेश
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपनी क़िस्मत के दर्द
अपनी क़िस्मत के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
The Buddha And His Path
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
मोहभंग
मोहभंग
Shekhar Chandra Mitra
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...