Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

“तुच्छ प्राणी”

एक बार देखो तुम भी,
टटोलकर अपना हृदय,
स्पन्दन से प्रस्फुटित होगी,
दिव्य विचारों की श्रृंखला,
मानवता बिलखती सिसकती,
तुम्हारा उपहास करेगी,
तुम पाओगे स्वयं को ,
बन्धनों में छटपटाते,
चाहोगे तोडना तुम भी,
इन विचारों की श्रंखला,
मौन चीत्कार के सामने,
पाओगे स्वयं को विवश,
प्रयास तुम्हारे होंगे,
सारे के सारे विफल,
तुम तो हो तुच्छ प्राणी,
स्वयं को मान बैठे न जाने क्या,
एक बार, सिर्फ एक बार ,
उतार कर देखो तुम भी,
मुखौटा ये झूठ का,
पाओगे तुम स्वयं को,
तुच्छ प्राणी…तुच्छ प्राणी!

…निधि…

Language: Hindi
Tag: कविता
588 Views
You may also like:
अधूरी सी प्रेम कहानी
Seema 'Tu hai na'
गणपति स्वागत है
Dr. Sunita Singh
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
गीत
Kanchan Khanna
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कृष्ण नामी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़रूरत के रिश्ते निभते कहां हैं
Dr fauzia Naseem shad
बदलते रिश्ते
पंकज कुमार कर्ण
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
✍️मेरे अंतर्मन के गदर में..✍️
'अशांत' शेखर
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
वृक्ष हस रहा है।
विजय कुमार 'विजय'
दिल में मोहब्बत हीर से हीरे जैसी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
देश बचाओ
Shekhar Chandra Mitra
आज बच्चों के हथेली पर किलकते फोन हैं।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
गोवर्धन पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
रिश्ते
Saraswati Bajpai
भारत के वर्तमान हालात
कवि दीपक बवेजा
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
- मेरे अपनो ने किया मेरा जीवन हलाहल -
bharat gehlot
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...