Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 8, 2016 · 1 min read

तीन मुक्तक

तीन मुक्तक….

इंसान जगा इक आज नया
जागा सपना जब टूट गया।
थी नींद बड़ी गहरी उसकी।
सोया बिन पीकर वो विजया।1

जी लो तुम आज नया सपना।
जाये बन रोचक वो घटना।
पाये न कहीं अब कोइ कमी।
आगे बस आगे’ सदा रहना।2

देखो कितना कुहरा है’ घना।
इंसान डरे इससे कितना।
भोगे अपनी करनी फल वो
है आज बड़ी सबसे घटना।3

प्रवीण त्रिपाठी
08 नवम्बर 16

150 Views
You may also like:
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
✍️हलाल✍️
"अशांत" शेखर
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
लगा हूँ...
Sandeep Albela
✍️ग़लतफ़हमी✍️
"अशांत" शेखर
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
परिंदे को गम सता रहा है।
Taj Mohammad
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
हे दीन,दयाल,सकल,कृपाल।
Taj Mohammad
अविरल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तलाश
Dr. Rajeev Jain
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
उसूल
Ray's Gupta
✍️इंतज़ार के पल✍️
"अशांत" शेखर
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे मात जीवन दायिनी नर्मदे हर नर्मदे हर नर्मदे हर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...