Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तीन तांका

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
~~~~~~~~~~~~~~~~~
तांका
01.
शरद रात
मध्य रात्रि का चाँद
हो पुलकित
दे गया पूनो को वो
पियूष की सौगात ।
—-0—-
02.
शरद रात
आज पूनो का चाँद
प्रेम पियूष
खूब बरसाएगा
लिए कोमल याद ।
—-00—-
03.
रात पूनम
शरद की चाँदनी
धरा पे बिछी
कोर स्नेह गगन
आज चाँद मगन ।
—-000—-
¤ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
मो.नं. 7828104111

141 Views
You may also like:
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
तब से भागा कोलेस्ट्रल
श्री रमण
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
पारिवारिक बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
फूल की महक
DESH RAJ
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
✍️पत्थर-दिल✍️
"अशांत" शेखर
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
गौरैया
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी (गीत)*
Ravi Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
** तक़दीर की रेखाएँ **
Dr. Alpa H. Amin
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
फुर्तीला घोड़ा
Buddha Prakash
Loading...