Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तीन तलाक

खुश हो लिए तुम तीन बार तलाक कह कर,
पता है मन भर गया है तुम्हारा साथ रह कर।

एक पल को भी नहीं सोचा कहाँ जाऊँगी मैं,
क्या तुम्हारा दिया यह दुःख सह पाऊँगी मैं।

सबने मंजूरी दे दी तलाक को बिना इजाजत,
खुदा का भी खौफ रहा नहीं आएगी कयामत।

क्या भविष्य रहेगा मेरे बच्चों का नहीं सोचा,
ज़िस्म को क्या तुमने मेरी रूह को भी नोचा।

बोलो कोई तो क्यों मैं बार बार निकाह पढ़ाऊँ,
कोई पशु नहीं हूँ जो हर रोज खूँटे बदले जाऊँ।

क्या होगा जब दूसरे तीसरे का मन भर जाएगा,
बूढ़ी हो जाऊँगी ऐसे ही मैं, कौन साथ निभाएगा।

तलाक के साथ मेहर देकर अहसान जताते हो,
साथ में जवानी के वो साल क्यों नहीं लौटाते हो।

बराबरी का दर्जा मुझे भी चाहिए ये मेरा हक है,
गलत फायदा उठा रहे हो तुम कोई नहीं शक है।

मेरी जिंदगी का फैसला दूसरे करें ये मंजूर नहीं,
जब बदला जाएगा रिवाज अब वो दिन दूर नहीं।

सुलक्षणा एक साथ लड़नी होगी ये लड़ाई हमें,
वरना जीने नहीं देंगे चैन से ये मर्द अन्यायी हमें।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

3 Likes · 1691 Views
You may also like:
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुझमें भारत तुझमें भारत
Rj Anand Prajapati
विसाले यार
Taj Mohammad
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आ सजाऊँ भाल पर चंदन तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
कुछ काम करो
Anamika Singh
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता है मेरे रगो के अंदर।
Taj Mohammad
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
जिंदगी को खामोशी से गुज़ारा है।
Taj Mohammad
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
आजादी का जश्न
DESH RAJ
वर्षा
Vijaykumar Gundal
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...