Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2021 · 1 min read

तीन किताबें

वो तीन किताबें थी,
क्या नहीं था उनमें,
फिर क्यों मुझको बेचा,
क्या फर्ज हुआ था पूरा,
या मित्रता हमसे तोड़ दी,
उन कूड़ो के ढेर में,
ज्ञान मेरी तोल दी,
कितना तिरस्कार,
सच्ची मित्रता ,
यूँ बाजार में बेच दी ।
वो तीन किताबें …….।

यूंँ उदास पड़ा देख मुझको,
नए मित्र ने मुझको ले ली,
मिला मित्र अब सच्चा,
यह परीक्षा उसने दे दी,
भरा हुआ था मुझ में सब कुछ ,
ऐसी जगह उसने दे दी ,
पुस्तकालय में मिला सम्मान ,
अहमियत मेरी पढ़ ली ,
अनमोल ज्ञान उसने ले ली।
वो तीन किताबें…….।।

***बुद्ध प्रकाश
*** मौदहा हमीरपुर ।

Language: Hindi
Tag: कविता
7 Likes · 2 Comments · 252 Views
You may also like:
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
✍️शर्तो के गुलदस्ते✍️
'अशांत' शेखर
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अपना मुकदमा
Yash Tanha Shayar Hu
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
गोल चश्मा और लाठी...
मनोज कर्ण
एक छोटी सी बात
Hareram कुमार प्रीतम
वही मेरी कहानी हो
Jatashankar Prajapati
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
सुख की कामना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कई शामें शामिल होकर लूटी हैं मेरी दुनियां /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
“ फेसबुक के दिग्गज ”
DrLakshman Jha Parimal
श्वान
लक्ष्मी सिंह
💐उत्कर्ष💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
दर्द सबका भी सब
Dr fauzia Naseem shad
कलयुग : जंग -ए - जमाने
Nishant prakhar
पिता
Santoshi devi
फस्ट किस ऑफ माई लाइफ
Gouri tiwari
"गर्वित नारी"
Dr Meenu Poonia
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
*हटी तीन सौ सत्तर (मुक्तक)*
Ravi Prakash
एक तलाश
Ray's Gupta
Loading...