Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2022 · 1 min read

*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*

*तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
••••••••••••••••••••••••••••••••••
सजती हाथों में हिना, मना तीज त्यौहार
उत्साहित हैं नारियॉं, ढेरों-ढेर अपार
ढेरों-ढेर अपार, बाग में झूला डाले
पति का पावन प्यार, नेह से भर-भर पाले
कहते रवि कविराय, खनन-खन चूड़ी बजती
कर सोलह सिंगार, सुकोमल गोरी सजती
_________________________
हिना = मेहंदी
_________________________
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

36 Views
You may also like:
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता
Santoshi devi
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मेरी लेखनी
Anamika Singh
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
गीत
शेख़ जाफ़र खान
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
मेरे पापा
Anamika Singh
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
बाबू जी
Anoop Sonsi
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
Loading...