Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 2, 2016 · 1 min read

तिश्नगी दिल की वो बढ़ाते हैं

तिश्नगी दिल की वो बढ़ाते हैं
दुश्मनी हमसे ज्यों निभाते हैं

बेहयाई तो देखिये उनकी
ज़ख्म देते हैं मुसकुराते हैं

लूट लेते हैं वो ही गुलशन को
जिनको हम बागबाँ बनाते हैं

मंज़िलें साथ छोड़ जाती है
रास्ते ही वफ़ा निभाते हैं

एक छोटी सी बात में कितने
लोग मफ़हूम ले के आते हैं

फूल आए न आए हिस्से में
ख़ार से ज़िंदगी सजाते हैं

लोग दौलत के वास्ते ‘माही’
आदमीयत को बेच जाते हैं

माही

191 Views
You may also like:
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
लॉकडाउन गीतिका
Ravi Prakash
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
इस शहर में
Shriyansh Gupta
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
जो देखें उसमें
Dr.sima
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
✍️एक चूक...!✍️
"अशांत" शेखर
तपिश
SEEMA SHARMA
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
"अशांत" शेखर
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
ऊपज
Mahender Singh Hans
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
Loading...