Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

तितली थी मैं

तितली थी मैं
तुम्हारे लिए ही तो उड उड़कर आती थी
तुम खुश होते थे मुझे देखकर
तुम्हारी इस खुशी पर बलि जाती थी ।
पर तुम्हारे डर ने
मुझे मुट्ठी में कसकर बाँध लिया
बहुत कसमसाई तड़पी मैं
पर तुम वो बेचैनी समझ न सके
और मिट गई मैं,
काश तुम समझ पाते
मेरा तुम्हारे प्रति प्रेम
तो ये डर कभी
हम दोनों को खत्म न कर पाता।

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Saraswati Bajpai

You may also like:
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
जान का नया बवाल
जान का नया बवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"आया रे बुढ़ापा"
Dr Meenu Poonia
शांतिवार्ता
शांतिवार्ता
Prakash Chandra
"पते की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
राधा-कृष्ण के प्यार
राधा-कृष्ण के प्यार
Shekhar Chandra Mitra
शुकराना
शुकराना
Shivkumar Bilagrami
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
माना के वो वहम था,
माना के वो वहम था,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
अधीर मन खड़ा हुआ  कक्ष,
अधीर मन खड़ा हुआ कक्ष,
Nanki Patre
चांदनी रात
चांदनी रात
Mahender Singh Hans
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
Winning
Winning
Dr. Rajiv
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
मानव मूल्य शर्मसार हुआ
Bodhisatva kastooriya
कवि कृष्णचंद्र रोहणा की रचनाओं में सामाजिक न्याय एवं जाति विमर्श
कवि कृष्णचंद्र रोहणा की रचनाओं में सामाजिक न्याय एवं जाति विमर्श
डॉ. दीपक मेवाती
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
हमें याद आता  है वह मंज़र  जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
हमें याद आता है वह मंज़र जब हम पत्राचार करते थे ! कभी 'पोस्
DrLakshman Jha Parimal
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
आनंद
आनंद
RAKESH RAKESH
💐अज्ञात के प्रति-89💐
💐अज्ञात के प्रति-89💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
*नहीं चाहता जन्म मरण का, फिर इस जग में फेरा 【भक्ति-गीत】*
*नहीं चाहता जन्म मरण का, फिर इस जग में फेरा 【भक्ति-गीत】*
Ravi Prakash
■ कहानी घर घर की....
■ कहानी घर घर की....
*Author प्रणय प्रभात*
एमर्जेंसी ड्यूटी
एमर्जेंसी ड्यूटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
Loading...