Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2020 · 1 min read

” तारे “

ये टिमटिमाते तारे ना जाने क्या कहते हैं ,
अपने आप में ना जाने कितने दर्द बयां करते हैं ।
सब कुछ तो नहीं पर कुछ तो निखारते हैं ,
अपने चमक से हर ग़म को छुपा लिया करते हैं ।।

✍️ ज्योति ✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 295 Views

Books from ज्योति

You may also like:
■ आम जनता के लिए...
■ आम जनता के लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
हमारा संविधान
हमारा संविधान
AMRESH KUMAR VERMA
उन्हें नहीं मालूम
उन्हें नहीं मालूम
Brijpal Singh
⚪️ रास्तो को जरासा तू सुलझा
⚪️ रास्तो को जरासा तू सुलझा
'अशांत' शेखर
Writing Challenge- अंतरिक्ष (Space)
Writing Challenge- अंतरिक्ष (Space)
Sahityapedia
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
SUCCESS : MYTH & TRUTH
SUCCESS : MYTH & TRUTH
Aditya Prakash
हाइकु:(कोरोना)
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
*नियंत्रण जिनका जिह्वा पर, नियंत्रित कौर होता है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
हर आईना मुझे ही दिखाता है
हर आईना मुझे ही दिखाता है
VINOD KUMAR CHAUHAN
"नशा इन्तजार का"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर आप ज़िंदा हैं तो
अगर आप ज़िंदा हैं तो
Shekhar Chandra Mitra
एक सुबह की किरण
एक सुबह की किरण
कवि दीपक बवेजा
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Kabhi kabhi har baat se fark padhta hai mujhe
Roshni Prajapati
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
आया है फागुन आया है
आया है फागुन आया है
gurudeenverma198
एक प्रश्न
एक प्रश्न
komalagrawal750
मित्रता दिवस
मित्रता दिवस
Dr Archana Gupta
गांव
गांव
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
अंदर का मधुमास
अंदर का मधुमास
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-493💐
💐प्रेम कौतुक-493💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपनी अना का
अपनी अना का
Dr fauzia Naseem shad
समक्ष
समक्ष
Dr Rajiv
निकलते हो अगर चुपचाप भी तो जान लेता हूं..
निकलते हो अगर चुपचाप भी तो जान लेता हूं..
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
थकते नहीं हो क्या
थकते नहीं हो क्या
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ankit Halke jha
अंगार
अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम एक अनुभव
प्रेम एक अनुभव
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Loading...