Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 3 min read

ताकत

हासिम मंत्री बन चुका था अब जब भी वह आता पूरा काफिला उसके साथ चलता इलाके के सारे प्रधान ब्लाक प्रमुख पंचायत सदस्य उसके पास अपने अपने क्षेत्र की जरूरतों के अनुसार विकास के लिए पैसा एव अपने अपने क्षेत्र की जनता के कार्यो के लिए सिफारिश करने आते।

लेकिन हाशिम् उस प्रधान को कभी नही भुला जिसने उसे बचपन मे ही गुमराह करके बर्बाद करने की कोई कोर कसर नही छोड़ी थी ।

उससे मिलना भी प्राधन की छोटी राजनीतिक आवश्यकता बन गयी थी जब भी प्रधान जी मिलने आते वह उनके साथ वैसा ही व्यवहार करता जैसा उसके साथ प्रधान जी ने बचपन के दिनों में किया था वह कहता आओ प्राधन जी जमाना
#जिसकी लाठी उसकी भैस # का है कल तक लाठी तुम्हारे हाथ मे थी और तुम गांव की जनता को जानवर समझकर जिधर चाहते उधर ही हांकते थे लेकिन आज लाठी हमारे हाथ मे है लेकिन हम जनता को जानवर नही बल्कि जनार्दन समझते है और उसके सम्मान एव हक के साथ कभी बदसलूकी या नाइंसाफी नही करेंगे ।

बेशक की हम खुद उसी नाइंसाफी की कोख से जन्मे राजनीतिज्ञ है लेकिन हमें उस दर्द का सिद्दत से एहसास है जिसे हमने स्वंय महसूस किया है।

हम इतने गैरतमंद घटिया इंसान नही हो सकते राजनितिक सफलता के लिए कोई भी चाल चले आम जनता का अहित कभी नही बर्दास्त कर सकते है चाहे हिन्दू हो मुसलमान हो या किसी धर्म जाती का वह सबसे पहले वह भारतीय एव देश प्रदेश का इज़्ज़तदार नागरिक है ।

जिसके लिए मेरे खून का कतरा कतरा कुर्बान है जबकि आप गांव वालो के खून के कतरे कतरे को भय भूख दहसत के साये में पीते और उसी की क्रूर कुटिल लाठी आपके हाथ थी जिसकी मार की पैदाइश मैं हूँ।

मैं बेसक क्रूर कुटिलता भय दहसत दलाली की आपकी राजनीतिके शैली की उपज हूँ फिर भी मैं अन्याय अत्यचार जाती धर्म की संकीर्ण राजजनीति के विरुद्ध ही अपनी राजनीतिक जीवन का समर्पण करूँगा ।

मेरी ताकत की लाठी उठेगी अन्याय अत्याचार भय दहसत के खात्मे के लिए ना कि उसे जन्म देने के लिए आज मेरी लाठी धर्म है ।

प्राधन जी यह तो सदियों से चला आ रहा है कि ताकत ही शासन का मूल स्रोत है लेकिन ताकत का बेजा इस्तेमाल ही क्रूरता कुटिलता अहंकार को जन्म देता है प्राधन जी आपने तो यही सोच लिया कि आप कभी बूढ़े नही होंगे कभी मरेंगे नही सदा आपके हाथ मे गांव की जनता ताकत की लाठी सौंपती रहेगी और आपके शक्ति शासन का शौर्य कभी डूबेगा ही नही आपने यही सोच कर गांव के उदयीमान नौजवानों को अपनी सत्ता शासन के दम पर पैसे के जोर पर ऐसे दल दल में ढकेल दिया जो कभी भी आपको चुनौती दे सकने में सक्षम नही हुये उनमें मैं भी एक था पता नही मेरे मां बाप ने कौन से पुण्य किये थे जिससे कि मुझे अंधेरे के दल दल में भी रौशनी मिल गयी फिर भी मैं आपको चुनौती नही दे रहा कही न कही सहयोग ही कर रहा हूँ।

अपने गांव की बहू बेटियों जिस पर आपकी नजर पड़ गयी बर्बाद करने में कोई कोर कसर नही उठा रखा क्योकि आपको मालूम था कि आपको प्रधानी भी उसी रास्ते से मिली है ।

प्रधान जी मैंने सारे रास्तों को सिर्फ इसलिये ही अपनाया की मुझे आपके द्वारा दलदल में धकेलने के बाद अंधेरे में मुझे जिंदगी की रौशनी मकशद मिल जाये मैं कभी भी शासन सत्ता की शक्ति से आम जन को जानवरों की तरह नही हांकूँगा मैं सदैव उनके कल्याण एव विकास के लिए ही ताकत की लाठी उठाऊंगा और #जिसकी लाठी उसकी भैस # कहावत को नकार कर जनता की लाठी जनता की ताकत बनाऊंगा।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखुर उत्तर प्रदेश ।।

Language: Hindi
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
जनगणना मे मैथिली / Maithili in Population Census / जय मैथिली
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
नैन
नैन
Taran Verma
रात एक खिड़की है
रात एक खिड़की है
Surinder blackpen
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
मेरी पलकों पे ख़्वाब रहने दो
Dr fauzia Naseem shad
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
काले घने बादल ढक लेते हैँ आसमां कुछ पल के लिए,
Dr. Rajiv
💐Prodigy Love-26💐
💐Prodigy Love-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️नोट : दिनांक 5 अप्रैल 2023 से चल रहे रामचरि
🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️नोट : दिनांक 5 अप्रैल 2023 से चल रहे रामचरि
Ravi Prakash
"मैं मोहब्बत हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
देश प्रेम
देश प्रेम
डॉ प्रवीण ठाकुर
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane chale the ha
Pyar ke chappu se , jindagi ka naiya par lagane chale the ha
Sakshi Tripathi
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
बिहार दिवस  (22 मार्च 2023, 111 वां स्थापना दिवस)
रुपेश कुमार
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
न हो आश्रित कभी नर पर, इसी में श्रेय नारी का।
डॉ.सीमा अग्रवाल
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
इश्क़ इबादत
इश्क़ इबादत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
माँ
माँ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
The Little stars!
The Little stars!
Buddha Prakash
खुले आँगन की खुशबू
खुले आँगन की खुशबू
Manisha Manjari
कहानी *
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
rajeev ranjan
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
_सुलेखा.
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
■ समयोचित विचार बिंदु...
■ समयोचित विचार बिंदु...
*Author प्रणय प्रभात*
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
Tarun Prasad
Loading...