Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

तांका

मनीभाई की तांका
●●●●●●●●●●

नाचते देखा
देव विसर्जन में
लोगों को मैंने
लिए फूहड़पन
डीजे केे तरानों में।
(कलयुगी भावभक्ति विशेष)

199 Views
You may also like:
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
समय ।
Kanchan sarda Malu
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
पंचशील गीत
Buddha Prakash
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
मेरे पापा
Anamika Singh
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
आदर्श पिता
Sahil
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...