Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2016 · 1 min read

“तलाश”

“तलाश”
– राजा सिंह
ऐ मेरी मौत !
तू कहाँ कहाँ भटका करती है ?
मैंने तुम्हे तलाशा था ,
जब बाप दारू के नशे में
नंगा नांच रहा था .
ऐ मेरी मौत !
तू उस वक्त कहाँ थी ?
जब मेरी माँ दम तोड़ रही थी
और मै गिडगिड़ा रहा था,
शतरंज खलेते सरकारी डॉक्टर से ,
उसे देखने के लिए .
ऐ मेरी मौत !
तू उस वक्त भी नहीं आई
जब मेरी बहन को
गुंडे रौद रहे थे
और मै बेबस
खड़ा निहार रहा था .
ऐ मेरी मौत !
तू अब भी नहीं आ रही है ,
जबकि लोग मुझे
पागल कहकर पत्थर
मार रहे हैं .
–राजा सिंह

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 1 Comment · 183 Views
You may also like:
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
हिंदी, सपनों की भाषा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दौलत बड़ी या मां का दुलार !
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे दिल को
Dr fauzia Naseem shad
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
क्षमा
Saraswati Bajpai
बाल कविता : डॉक्टर
Ravi Prakash
दुर्गा पूजा विषर्जन
Rupesh Thakur
खींचो यश की लम्बी रेख
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️आज तारीख 7-7✍️
'अशांत' शेखर
वरदान या अभिशाप फोन
AMRESH KUMAR VERMA
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गरीबी
कवि दीपक बवेजा
उड़ता लेवे तीर
Sadanand Kumar
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
सच्चाई लक्ष्मण रेखा की
AJAY AMITABH SUMAN
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
स्तुति
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
गुरु की महिमा पर कुछ दोहे
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारे सिवा भी बहुत है
gurudeenverma198
Daily Writing Challenge : New Beginning
Mukesh Kumar Badgaiyan,
इस छोर से उस कोने तक
Shiva Awasthi
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
Loading...