Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 25, 2022 · 1 min read

तलाश

तलाश*
भटकना रोज ही है
अंदर भी बाहर भी
कभी अपने को न पाया,
किया तलाश कितना भी
अंदर भी और बाहर भी

वही मंजर, वही राहें
वही इमारत, वही दलान
ढूंढता हूं जिसको यहां
मिलता नहीं कितना भी

कौन सी बात, कौन सी उलझन
समझता हूं, समझता भी नहीं
बहुत सी काबिलियत
पर फंसता जाता हूं
समझाता हूं जितना भी

ये बेचारी कुछ लम्हों की
उम्मीदें हैं कुछ सपनों की
कभी तो रात खत्म ही होगी
अपनों की तलाश, फिर सुबह होगी

बीती जिंदगी के निशान पढ़े होंगे
कहीं कुछ घने पेड़ खड़े होंगे

मांगता कोई भी उनसे साया होगा
किसी ने किसी का साथ
फिर निभाया होगा

हवा कुछ थम सी गई होगी
पत्तियों चुहल सी की होगी

कोई हमसाया क्या वहां होगा
किसी ने फिर गीत गाया होगा
कलकल पानी की लहर होगी
परिंदों की हल चल रही होगी

सुबह हर शख्स काम को
निकल गया होगा
कोई अरमान आज भी
साथ लेकर गया होगा

किसी ने तो इस किनारे से
उस किनारे जाते देखा होगा
कोई हाथ हवा में रुखसत
में उठा होगा

ढलते सूरज के समय उस किनारे पर अक्स उभर आता है
एक चेहरा उसी ताजगी से
धुंध में नजर आता है

भटकना रोज ही है
अंदर भी और बाहर भी
कभी अपने को न पाया
किया तलाश कितना भी
अंदर भी और बाहर भी

डॉ राजीव “सागर ”
सागर मध्य प्रदेश

187 Views
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
क्या तुम आजादी के नाम से, कुछ भी कर सकते...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
संघर्ष
Arjun Chauhan
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
शासन वही करता है
gurudeenverma198
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
बताकर अपना गम।
Taj Mohammad
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
हक़ीक़त न पूछिये मुफलिसी के दर्द की।
Dr fauzia Naseem shad
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुन्दर घर
Buddha Prakash
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
माँ वाणी की वंदना
Prakash Chandra
*"पिता"*
Shashi kala vyas
दिल लगाऊं कहां
Kavita Chouhan
"रिश्ते"
Ajit Kumar "Karn"
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
जलवा ए अफ़रोज़।
Taj Mohammad
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
समय
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...