Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

तलाक की नौबत न आने दीजिये

तलाक लफ्ज ही है दर्दनाक
बस इतना जान लीजिए
विनती है दुनिया वालों तुमसे
तलाक की नौबत न आने दीजिये ।

ढाई दिन की है जिंदगी
एक दूसरे पर वार दीजिये
आएं भूचाल जो जिंदगी में
हंस खेल के गुजार दीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,,,,

केवल सुख ही सुख हो हर पल
ऐसा कभी होता ही नहीं
ऐसा चाहते अगर माँ बाप तुम्हारे भी
तो तुम्हारा भी जन्म होता नहीं
लड़ना झगड़ना तो है बेहतरीन पल जिंदगी के
बस इतना ही विचार लीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,,,,,,

मन में हो शक का भार अगर
जल्दी से साथी से हल्का कर लीजिए
मन ही मन पानी देकर इसे
और न कड़वा ये विष कीजिये
होता है अक्सर शक से विनाश देखा मैंने
इसे दूर कर जिंदगी सँवार लीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे ,,,,,,,,

मित्र होते है करीबी , जीवन साथी तुम्हारे
चाहे नजरें पूरा संसार घुमा लीजिये
पग पग साथ की पड़ती है जरूरत उनकी
इतना जरूर समझ लीजिए
टूट जाते हैं मोती दिल की माला के बिछुड़कर
साथ यूँ न आसानी से छूटने दीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,,,,,,,,

बच्चों के मात पिता जब बिछड़ने की सोचना
उनका क्या होगा भविष्य , ये भी तो देखना
माँ बाप की कमी को उम्र भर तरसते वो
कौन सुनेगा तुम्हारे बाद ,उनके तन्हा दर्द की वेदना
बिन माँ बाप खाते हैं ठोकरे बच्चे उम्र भर
ये तस्वीर मन में खींच लीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,,,,,,,

सास को माँ और माँ को सास
जो समझे शादी के बाद
समझना उसकी जिंदगी में आनंद ही आनंद
मिलता रहेगा परमपिता का आशीर्वाद
पत्नी को समझे जो लक्ष्मी अपने घर की
शक का करता रहे हर पल विनाश
उसकी संवर गयी रे जिंदगी
हुआ उस घर में जो राम राज
बन्द कमरे की गलतफहमियां
कमरे में ही सुलझा लीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,,,,

रिश्ता जोड़ने से पहले एक सावधानी
बड़े बुजुर्ग आज के समय में जान लीजिए
जानें एक दूसरे को वो पहले
2 से 3 बार उन्हें बेशक मिलने दीजिये
विचारों के तालमेल है जरूरत आज की
यही न मिलना है दीवार आज की
इस दीवार को न शुरू से ही पनपने दीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,

लड़की के परिजन आज के समझे अगर इस बात को
न झांकिए शादी के बात बिलकुल भी , बेटी के परिवार को
न उजड़ेगी बेटी की जिंदगी कभी
बेशक हजार बार आजमा लीजिये
कभी भी गलती से बेटी को ,
ससुराल के मामले में
बेवजह न अपनी राय दीजिये
हो सके तो जितना भी अगर तुमसे
बेटी से दुश्मनी कर लीजिए
सीख जायेगी खुद बेखुद लड़खड़ाकर
वो जीना आख़िरकार
उसे अपने दम पर जीने का
मौका तो दीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे,,,

एक का कहना , दूसरे ने सहना
ससुराल का रहना , मायके न कहना
ये दोहा जिंदगी में उतार लीजिये
हसीन होगी जिंदगी तुम्हारी
जो इन बातों को विचार लीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे ,,,,

पवित्र रिश्ता निभाओ अपनी सूझबूझ से हरदम
जीवन साथी तुम , दिया और बाती तुम
मांग चमकाकर सजना की हर पल बहना
कभी न ये सूरज ढलने दीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे
तलाक लफ्ज को खुद से कोसों दूर कीजिये
विनती है दुनिया वालों तुमसे
तलाक की नौबत न आने दीजिये,,,,,,,,,

आज की हर युवा पीढ़ी को समर्पित,,,,,,,,,,,

1 Like · 1 Comment · 240 Views
You may also like:
नवगीत
Mahendra Narayan
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H. Amin
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
प्रारब्ध प्रबल है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
Nurse An Angel
Buddha Prakash
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐💐प्रेम की राह पर-20💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
या इलाही।
Taj Mohammad
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
💐तर्जुमा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
मरते वक्त उसने।
Taj Mohammad
बेजुबान
Dhirendra Panchal
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...