Oct 9, 2016 · 1 min read

तमन्नाओ की बन्दिशे

तमन्नाओ की बन्दिशे अब गायी नहीं जाती
मुहब्बत के शेर सब औंधे पडे है

डूब रहे थे इश्क के दरिया मे जो संग
हम डूब रहे है, वो साहिल पे खडे है

हमसे अलग होने को कदमो की दिशा बदली
वापस न आयेंगे जो पग मेरे आगे बढे है

क्या हाथ उठाऐगें वजू करने को वो प्रीति
जो अहम की धरापर जिद पर अडे है

165 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
किताब।
Amber Srivastava
"शादी की वर्षगांठ"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H.
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
मेरे पापा!
Anamika Singh
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग६]
Anamika Singh
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां
Dr. Rajeev Jain
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ढह गया …
Rekha Drolia
उस दिन
Alok Saxena
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...