“तभी बिखेरे बाती नूर” {लम्बी तेवरी-तेवर पच्चीसी } +रमेशराज

छुपे नहीं तेरी पहचान, इतना मान
चाहे रूप बदल प्यारे । 1

तुझमें बढ़ा घृणा का भाव, भारी ताव
अंगारों में जल प्यारे । 2

सज्जन को करता गुमराह, भरकर डाह
क्यों घूमे बन खल प्यारे । 3

बहुत जिया तू जल के बीच, आँखें मींच
अब आयेगा थल प्यारे । 4

सच्चाई से तू है दूर, छलिया-क्रूर
निर्मल बनता मल प्यारे । 5

तभी बिखेरे बाती नूर, ये दस्तूर
मोम सरीखा गल प्यारे । 6

दुःखदर्दों से किसकी मुक्ति? कोई युक्ति??
क्या होना है कल प्यारे? 7

अब तू जिस संकट के बीच, भारी कीच
थोड़ा-बहुत निकल प्यारे । 8

रैंग, हुआ जो पाँव विहीन, बनकर दीन
सर्प सरीखा चल प्यारे । 9

जग में उल्टे-सीधे काम, ओ बदनाम
क्यों करता है छल प्यारे । 10

बहे पसीना गर्मी खूब, झुलसी दूब
अब तो पंखा झल प्यारे । 11

अब होना सारा तम भंग, दीखे रंग
सूरज रहा निकल प्यारे । 12

भले लगें तुझको बाजार, मेरे यार
चल सिक्कों में ढल प्यारे । 13

होना तुझे अन्ततः ढेर, मेरे शेर
अब तू खूब उछल प्यारे । 14

फिर करना ठंडक महसूस, अरे खडूस
थोड़ा अभी उबल प्यारे । 15

अगर नहीं करनी बरसात, ये क्या बात?
क्यों बनता बादल प्यारे । 16

कौन रहा यह पागल बोल, पेड़ टटोल
“फूल नहीं है फल प्यारे “। 17

हम बोलेंगे नहीं कठोर, तुझको चोर
पहले तनिक पिघल प्यारे । 18

बनता फिरता है सुकरात, बिन औकात
ले अब जरा गरल प्यारे । 19

जिसमें दिखें खुशी के रंग, उठें तरंग
कब आया वो पल प्यारे । 20

लोग आज गड्ढों को पाट, आकर हाट
दीख रहे समतल प्यारे । 22

आने दे थोड़ी-सी धूप, ओ स्तूप
क्यों तू बना महल प्यारे । 23

अपने मन को किये अधीर, लेकर पीर
डोल न बन पागल प्यारे । 24

दो छंदों में! फिर भी शे’र, देर-सबेर
ये भी रूप ग़ज़ल प्यारे?? 25
——————————————————————
+रमेशराज,15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
Mo.-9634551630

115 Views
You may also like:
पिता
Mamta Rani
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
हर रोज योग करो
Krishan Singh
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
"दोस्त"
Lohit Tamta
पिता का पता
श्री रमण
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
पुस्तकों की पीड़ा
Rakesh Pathak Kathara
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
परिंदों सा।
Taj Mohammad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...