Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 1 min read

तब से भागा कोलेस्ट्रल

बढ़ा शरीर में काॅलेस्ट्रल,
कुछ न सूझा इसका हल,
आसन करूंँ या प्राणायाम,
दौड़ लगाऊंँ या व्यायाम,
सब कुछ नीरस जैसा लगता,
आलस मन के पीछे पड़ता।
बढ़ा शरीर में काॅलेस्ट्रल,
कुछ न सूझा इसका हल,
डॉक्टर-वैद्य से करूंँ इलाज
या जाऊंँ महंँगा अस्पताल,
कर दूंँ भोजन का ही त्याग,
घी, तेल औ चिकन कबाब।
बढ़ा शरीर में काॅलेस्ट्रल,
तब सूझा इक इसका हल,
सब्जी का इक बाग लगाया,
गोभी, भिंडी दो-एक फल,
नित्य बागवानी औ गौसेवा,
तब से भागा काॅलेस्ट्रल।

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय, (बिहार)

4 Likes · 6 Comments · 168 Views
You may also like:
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
ज़िंदगी तुझसे
Dr fauzia Naseem shad
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अनामिका के विचार
Anamika Singh
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...