Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2021 · 2 min read

“तब घर की याद आती है”

दिन तो कट जाता है स्कूल में
बच्चों को पढ़ने-पढ़ाने में
पर रात की तन्हाई काट खाती है ।
तब घर की याद आती है।

जब घर पर बात होती है
माँ जब पूछती है
बेटा कब आएगा
2 साल का बेटा तेरा
रोज तुझे याद करके सो जाता है
और पूछता है माँ से, पापा “कब आएंगे”
चुन्नू के पापा तो रोज स्कूल से
दोपहर को घर आ जाते हैं
पापा क्यों नहीं आते,
रोज़ झूठा दिलाशा देती
और अपने ऑंसू छुपाती है।
तब घर की याद आती है

पूछते हैं कर फोन को
बहन कब आऊंगी राखी बांधने भाई को
दो साल हुए सूनी कलाई को
फिर राखी पड़ गई इतवार को
फिर अगली बार बांधने का वादा किया जाता है
और राखी डांक से भेजी जाती है
तब घर की याद आती है

दो दिन लगते आने और दो जाने में
एक दिन मिलता छुट्टी मनाने में
एक छुट्टी चार C L खा जाती है
कभी जी भर कर बात भी न होती
दोस्तों रिस्तेदारो से मुलाक़ात भी न होती
आने की तैयारी होने लगती
बेटी मेरी रोने लगती है
कहती है पापा कल आए आज चल दिये
फिर खिलौने वह ठुकराती है
तब घर की याद आती है

हँसकर हम पढ़ाते है बच्चों को
पर अंदर से हताश रहते है
अपने परिवार माँ बापू ,भाई बहन बेटे बेटी ,बीवी के ख्यालों में
खोये खोये रहते हैं
जब दोस्तों की याद आती है
तब घर की याद आती है

जो काम कर रहे है पांच सौ कोस दूर
करेंगे वही अपने घर भी हुज़ूर
पूरे उत्साह पूरे जोश के साथ
हो जाए अगर तबादला हमारा
बने हम भी अपने परिवार का सहारा
दिल से यही सदा आती है
तब घर की याद आती है
——-

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 309 Views
You may also like:
🚩फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बंधन
सूर्यकांत द्विवेदी
शतरंज की चाल
Shekhar Chandra Mitra
हे जग जननी !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह यादें
Anamika Singh
समय का इम्तिहान
Saraswati Bajpai
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
दर्द को गर
Dr fauzia Naseem shad
चित्र गुप्त पूजा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
जियले के नाव घुरहूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✴️जो बिखर गया उसका टूटना कैसा✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे, मनुज अब तो कुछ बोल,
डी. के. निवातिया
हरि चंदन बन जाये मिट्टी
Dr. Sunita Singh
भूख (मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
तू है ना'।।
Seema 'Tu hai na'
*समय की मॉंग है अब यह, परस्पर प्यार भी कर...
Ravi Prakash
प्रेम कथा
Shiva Awasthi
संगीत
Surjeet Kumar
✍️आहट
'अशांत' शेखर
Jindagi ko dhabba banaa dalti hai
Dr.sima
यही हमारा है धर्म
gurudeenverma198
हमको किस के सहारे छोड़ गए।
Taj Mohammad
सफ़रनामा
Gautam Sagar
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छत्रपति शिवाजी महाराज V/s संसार में तथाकथित महान समझे जाने...
Pravesh Shinde
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...