Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-439💐

तब्बसुम भेजी गई जो पयाम सी लगी,
गोली न थी पर वो क्यूँ धड़ाम सी लगी,
क्या-क्या नहीं होगा इस दिल की गली में,
कोई और बोलता है,उनकी आवाज़ सी लगी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नियत
नियत
Shutisha Rajput
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
सच के सिपाही
सच के सिपाही
Shekhar Chandra Mitra
मैने नहीं बुलाए
मैने नहीं बुलाए
Dr. Meenakshi Sharma
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ऋतु बसन्त आने पर
ऋतु बसन्त आने पर
gurudeenverma198
बादलों के घर
बादलों के घर
Ranjana Verma
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की अभिव्यक्ति
जीवन की अभिव्यक्ति
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
राकेश चौरसिया
माघी पूर्णिमा
माघी पूर्णिमा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
मैने प्रेम,मौहब्बत,नफरत और अदावत की ग़ज़ल लिखी, कुछ आशार लिखे
Bodhisatva kastooriya
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
Shakil Alam
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
Surinder blackpen
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
उसकी सूरत देखकर दिन निकले तो कोई बात हो
Dr. Shailendra Kumar Gupta
भक्ति -गजल
भक्ति -गजल
rekha mohan
💐Prodigy Love-38💐
💐Prodigy Love-38💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमारे प्यार का आलम,
हमारे प्यार का आलम,
Satish Srijan
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
तुम्हीं पे जमी थीं, ये क़ातिल निगाहें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
कुर्सी के दावेदार
कुर्सी के दावेदार
Shyam Sundar Subramanian
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
प्रेम
प्रेम
Kanchan Khanna
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
Loading...