Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 28, 2022 · 1 min read

तपिसों में पत्थर

तूफां में भी दीपों को जलते देखा है
अक्सर लोगों का वक्त बदलते देखा है

उनको आदत होगी मखमल पर चलने की
बहुतों को अंगारों पर चलते देखा है

रौशन सिर्फ़ चरागा महलों तक हो हमने
मैली गुदड़ी से लाल निकलते देखा है

जीवन संघर्षों में जो फँस जाते उनको
वक़्त से पहले ही हमने ढलते देखा है

गर्मी-गर्मी कह कर तुम ऊबे जाते हो
तपिसों में तो पत्थर को पिघलते देखा है

कद्र नहीं करते जो रुपयों की उनको सुधा
कंगाली में हाथों को मलते देखा है

डा. सुनीता सिंह ‘सुधा’
स्वरचित©®
वाराणसी

1 Like · 1 Comment · 38 Views
You may also like:
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
आया आषाढ़
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
कोई ख़्वाहिश
Dr fauzia Naseem shad
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"महेनत की रोटी"
Dr.Alpa Amin
चित्कार
Dr Meenu Poonia
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
"अशांत" शेखर
जीवन उर्जा ईश्वर का वरदान है।
Anamika Singh
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
नींदों से कह दिया है
Dr fauzia Naseem shad
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
ये जिन्दगी एक तराना है।
Taj Mohammad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
क्या क्या हम भूल चुके है
Ram Krishan Rastogi
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
कोई मरता नही है
Anamika Singh
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
✍️ग़लतफ़हमी✍️
"अशांत" शेखर
मां तेरे आंचल को।
Taj Mohammad
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
*चाची जी श्रीमती लक्ष्मी देवी : स्मृति*
Ravi Prakash
Loading...